Categories
Bed time Stories Ishhoo Exclusive Story

Kids Story: Argani ke Yaar/ अरगनी के यार (पार्ट 2)

खरगोश की आँख

सुबह नींद खुली तो अलग ही उत्साह था, पीहू अपनी मम्मी के पास पहुँची और बोली, “मम्मी, हम खिलौनों को कब नहलायेंगे?” मम्मी बोलीं, “पहले ब्रश, फिर दूध और ब्रेकफ़ास्ट उसके बाद, चलो पहले ब्रश कर लो|” पीहू से फिर भी न रहा गया, ब्रश पर पेस्ट लगवाने के बहाने पापा के पास आई और उठाते हुए बोली, “पापा गुड-मार्निंग, उठिए, सुबह हो गयी है….” पापा ने हलके से आँख खोली और प्यार से देखते हुए बोले, “गुड-मार्निंग पीहू जी, बोलिए क्या बात है? आज सुबह- सुबह पापा की याद कैसे?” जानते थे ज़रूर कोई काम होगा|

पीहू सम्हलते हुए बोली, “पापा ब्रश में पेस्ट लगा दीजिये”, पापा जानते थे बात कुछ और है, ब्रश में पेस्ट लगाते हुए मुस्कराए और उसकी ओर देखते हुए दोनों भहों को दो बार ऊपर को उठाया, मानो पूछ रहे हों, “बताओ बताओ, क्या बात है?” पीहू जानती थी, पापा ने सही अंदाज़ा लगाया था, सो बोली, “पापा खिलौनों को कैसे नहलाएंगे, शावर से या टब में? पापा, साबुन लगायेंगे या शैम्पू? उनकी आँखों में साबुन तो नहीं लगेगा?” पापा मुस्कुराये और बोले, “वेट करो, सरप्राइज है….पहले ब्रेकफास्ट करो, फिर बताएंगे|” ऐसे ही कुछ सवाल खिलौनों के मन में भी चल रहे थे, बेचारे अलमारी में कान लगाये सुनने की कोशिश कर रहे थे, पर हाथ कुछ न आया, सारे के सारे मायूस|

समय काटना मुश्किल हो रहा था, सब इस ही इंतजार में थे कि कब इनका दैनिक काम ख़तम हो और कब हमारे नहाने की बारी आए| मम्मी का नाश्ता, पापा की शेव, पीहू का ब्रश करना….समय जैसे धीमा हो गया था| बड़ी मुश्किल से ब्रेकफ़ास्ट ख़तम हुआ और सारे खिलौने अगली आवाज़ सुनने का इंतज़ार करने लगे| एक- एक सेकेंड मानो दस- दस मिनट का हो जैसे| तभी मम्मी की आवाज़ आई, “पीहू अपने सॉफ्ट-टॉय ले आओ यहाँ…”| पीहू भागी, सारे के सारे खिलौने चौकन्ने, अब क्या होगा, ख़ुशी और उत्साह का अनोखा सा मेल था मानो|

पीहू ने सभी खिलौनों को बास्केट में डाला, और पहुंच गयी बाथरूम, यह क्या मम्मी तो बाथरूम में नही थीं| पीहू चिल्लाई, “मम्मी कहाँ हो?”, “आँगन में, ज़ल्दी आओ” मम्मी बोलीं| “आँगन में? आंगन में कैसे नह्लाएंगी?” यही एक सवाल बन्दर, भालू, कुत्ता, खरगोश, गुड़िया और पीहू सबको आ रहा था| पीहू बास्केट उठाए आँगन में पहुंची तो देखा मम्मी वाशिंग मशीन में पाउडर डाल रहीं थी| “मम्मी, खिलौनों को वाशिंग मशीन में नह्लाओगी क्या?” पीहू ने ज़ोर देते हुए पूछा| “वाशिंग मशीन!!” बन्दर की तो जैसे जान ही हलक में आ गयी| “अरे वाशिंग मशीन में कौन नहाता है भला?” बड़ी मुश्किल से सूखते गले से बोला, पर ज़वाब किसी के पास नहीं था सभी अचंभित थे|

“हाँ बेटा, ऐसे खिलौनों को वाशिंग मशीन में ही धोते हैं, देखो उनपर टैग भी लगा होता है, वर्ना इतनी सारी धूल और यह जो मेकअप तुमने पोता है, छूटेगा कैसे?” प्यार से मम्मी ने समझाया और खिलौनों को एक- एक कर वाशिंग मशीन में डालने लगीं|

पहला छपाका तो मज़ेदार था, मानो लग रहा हो किसी पेड़ से नदी में कूद रहे हों, पर जानते थे असली कारनामा तो अभी बाकी था, अक्सर बगल वाली अलमारी में कपड़ो को आपस में बातें करते सुना था, फ्रेश तो हो जाते थे पर पहले कसरत बहुत करनी पड़ती थी| खैर सभी एक एक कर बुलबुले वाले पानी में कूदा दिए गए| पीहू का चेहरा देखने लायक था, समझ ही नहीं आ रहा था, अब क्या होगा, बस वाशिंग मशीन के आगे बैठी अपने खिलौनों को देख रही थी| ढक्कन बंद होते ही सबकी धड़कने बढ़ गई, अब क्या होगा? इसके पहले की कोई कुछ बोलता, चकरी घूमना चालू| शुरू- शुरू में तो थोड़ा डर लगा, फिर मज़ा आने लगा, शरीर की पूरी मैल धीरे- धीरे हट रही थी और गाढ़े लिपस्टिक के दाग भी| ऐसा लग रहा था मानो किसी वाटर पार्क में झूला झूल रहे हों|  दस मिनट का राउंड फिर एक ब्रेक फिर एक और राउंड| “वाह मज़ा आ गया”, बन्दर और खरगोश एक साथ बोले| गुड़िया, हाथी, टेडी बेयर सभी खुश थे और एक दुसरे पर पानी के छपाके मार रहे थे|

इधर पीहू की बोरियत बढ़ रही थी, चाह रही थी कब उसके खिलौने बहार निकलें और कब वह देखे उनकी हालत| इंतज़ार ख़त्म हुआ, मम्मी बोलीं, “बस दो मिनट और फिर इन्हें ड्रायर में डाल कर सुखाएंगे|” पीहू बोली कुछ भी नहीं पर उसकी उत्सुकता ज़रूर बढ़ गई|

मम्मी ने एक- एक कर सभी खिलौनों को निकला और ड्रायर बकेट में डाल दिया| सभी खिलौने खिल उठे थे, सारी धूल, सारा मेकअप अब उतर गया था, फिर भी थोड़ी चिपचिपाहट हो रही थी जो अन्दर एक उलझन पैदा कर रही थी, ऐसा लग रहा था एक दो डुबकी ठन्डे पानी में लगा लें तो तारो ताज़ा हो जाएं| पर यह क्या मम्मी ने दूसरी बकेट में डाल दिया था| बेचारे इससे पहले कुछ समझते ढक्कन दोबारा बंद और पानी की बरसात शुरू| वाह मज़ा आ गया, सभी खुश थे और ताज़ा महसूस कर रहे थे|

वोओओओओ……., ये क्या ….इतना तेज़ चक्कर, इससे पहले कि कुछ समझ पाते, पूरा दिमाग घूम गया, कौन कहाँ है और किसके सर पर चढ़ा है पता ही नहीं चल रहा था| दो पांच मिनट में तो पूरा शरीर निचुड़ गया|

अरे वाह, वापस वही ताज़गी, क्या खुशबू, क्या रंगत….” टेडी बेयर बोला| बन्दर लपक कर बोला, “सही बोले दोस्त, लगता है मैं वापस जवान हो गया हूँ, ऐसा लगता है अभी अभी कारखाने से निकला हूँ|”

सभी चहक रहे थे पर खरगोश थोड़ा घबराया हुआ सा था, चक्कर खाते- खाते उसकी एक आँख लटक गयी थी| बन्दर हँसते हुए बोला, “अरे यह क्या हाल बना लिया, एक आँख के खरगोश|”

मम्मी ने पापा को बुलाया और बोलीं, “इन्हें छत पर अरगनी पर सुखा दीजिये, धूप तेज़ है, ज़ल्द ही सूख जाएंगे|” पापा ने बकेट उठाई और पहुंच गए छत पर, पीहू भी पीछे- पीछे पहुंच गई, चेहरे की मुस्कान कुछ अलग ही थी, सारे खिलौने नए जो हो गए थे| पापा एक- एक कर सारे खिलौने अरगनी पर डालने लगे, कोई कान से लटका था तो कोई पूँछ से, पर जैसे ही खरगोश को अरगनी पर डालने के लिए झटका, उसकी एक आँख निकली और जा गिरी कूलर के नीचे| तभी पीहू की नज़र खरगोश पर पड़ी और चौंकते हुए बोली, “पापा, खरगोश की आँख?”, पापा ने देखा फिर बोले, “शायद वाशिंग मशीन में गिर गयी होगी”, पीहू भागते हुए नीचे आई और मम्मी से बोली, “मम्मी खरगोश की एक आँख खो गयी है, वाशिंग मशीन में देखो ना|” मम्मी ने देखा पर आँख न मिली, पीहू भागते हुए छत पर गयी और बेतहाशा इधर उधर ढूँढने लगी|

मामला संगीन हो गया था, बन्दर भी अब चुप था और चाह रहा था कैसे भी कर खरगोश की आँख मिल जाए| सभी दोस्त अरगनी पर लटके हुए चारो ओर देखने लगे, तभी जिन सूखे हुए कपड़ो को पापा उतार चुके थे, उनमें से रूमाल बोली, “वो देखो, तुम्हारी आँख, कूलर के नीचे है|”, सभी की निगाह कूलर के नीचे पहुंची, अरे वाह, आँख तो दिख गयी, पर करें क्या? कैसे बताएं? शाम होते ही हवा तेज़ हो पड़ेगी, फिर आँख इधर उधर हो गयी तो, और कही बारिश हो गयी तो, गए काम से|

तभी रूमाल के साथ ही पापा के हाथ में पड़ी स्कूल शर्ट बोली, “एक तरीका है, वह बगल वाली छत पर रोहन भईया खेल रहा है, अगर हम फुटबाल और जूते से बात करके देखे, शायद वो हमारी कुछ मदद कर सकें, वर्ना एक बार हम नीचे गए तो शायद तीन चार दिन बाद ही छत पर आना होगा, तब तक खरगोश की आँख न जाने कहाँ होगी|

समय कम था, जल्द ही कुछ करना था, बन्दर ने चिल्लाते हुए रोहन के जूते और फुटबाल को सारी बात बताई| जूता और फुटबाल हल्का सा मुस्कुराये और बोले, “यारों के लिए कुछ भी….” उधर रोहन ने फुटबाल को किक करने के लिए पैर बढ़ाया, जूते ने हल्का सा एंगल बदला, फुटबाल ने तेज़ छलांग लगाई और सीधे टकराई पीहू के पापा के हाथ से, हड़बड़ाहट में सारे कपड़े छटक कर छूट गए, रूमाल ने जोर की उछाला भरी और जा गिरी कूलर के नीचे|

इधर पापा ने रोहन को डांटना शुरू किया, रोहन को तो समझ ही नहीं आ रहा था कि, धीरे से मारी हुई किक से फुटबाल छत फांद कर कैसे पहुँच गई| पीहू चुपचाप कपड़े बटोर रही थी, जैसे ही उसने कूलर के पास से रूमाल उठाई, जोर से चिल्लाते हुए बोली, “पापा खरगोश की आँख मिल गई|” पापा का गुस्सा थोड़ा कम हुआ, पीहू से बोले, “जाओ मम्मी से बोलो इन कपड़ो को एक बार फिर से निथार दें, बोलना छत पर गिर गए थे|” पीहू भाग कर गयी और बेहद खुश अंदाज़ में बोली, “मम्मी खरगोश की आँख मिल गई, और पापा बोल रहे है इन कपड़ो को फिर से धो दो, गिर गए थे|”

आज छत का माहौल कुछ अलग ही था, हवा थोड़ी तेज़ हुई तो, खरगोश, बन्दर, टेडी बेयर, सभी जोर जोर से हिल रहे थे, मानों रूमाल और शर्ट को छूना चाहते हों, रूमाल और शर्ट भी कुछ ख़ास महसूस कर रहे थे| उधर अगली छत पर पड़े जूते और फुटबाल भी बेहद खुश थे, अरगनी पर उन्हें नए यार जो मिल गए थे|                                                                                                                                             

3 replies on “Kids Story: Argani ke Yaar/ अरगनी के यार (पार्ट 2)”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s