Categories
Bed time Stories Lok Kathayen Misr ki Lok Kathayen Story

Misr (Egypt) ki Lok Kathayen-1 (मिस्र की लोक कथाएँ-1)

कहानी- बिन मां के बच्चे (Bin Maa ke bachhe): मिस्र की लोक-कथा

ishhoo blog image14

बहुत समय पहले की बात है। एक आदमी अपने परिवार के साथ एक छोटे से गांव में रहता था। जब उसके बच्चे छोटे ही थे तभी उनके माँ की मृत्यु हो गयी। बच्चों की देखभाल के लिए पति को दूसरी शादी करनी पड़ी। कुछ सालों के बाद सौतेली माँ ने भी दो बच्चों को जन्म दिया। अब चारों भाई-बहन एक साथ रहते थे।

समय बीतते सौतेली माँ एकदम बदल गयी। वह अपने बच्चों को अच्छा खाना खिलाती और रंगीन कपड़े पहनाती थी और सौतेले बच्चों को पुराने कपड़े पहनाती थी। कुछ दिनों बाद सौतेली माँ ने उन्हें सूखी रोटी देकर गौशाला भेजना शुरू कर दिया। अब वे दिन भर गौशाला में रहते और भूखे-प्यासे शाम को घर आते थे। ऐसे में उन्हें अपनी माँ की बहुत याद आती थी।

एक दिन दोनों बच्चों ने अपने हाथ की सूखी रोटी, अपनी काली गाय को देते हुए कहा, “माँ तुम हम पर ऐसी दया करो, जैसी हमारी माँ हम पर करती थी।” इतना कहना था कि गाय के थनों से दूध निकल आया। दोनों बच्चों ने खुश होकर भरपेट दूध पिया। अब वे रोज हाथ की रोटी उसे देते और गाय उन्हें भरपेट दूध पिलाती थी। इससे वे खुश रहते थे और उन्हें गौशाला जाना भी अच्छा लगने लगा।

कुछ ही दिनों के बाद सौतेली माँ ने बच्चों के चेहरों पर लाली देखी तो आश्चर्य में पड़ गयी। उसे अपने बच्चों पर बड़ी दया आयी कि वे तो दुबले-पतले ही थे। दूसरे ही दिन से उसने अपने बच्चों को भी सूखी रोटी देना शुरू कर दिया। दो-तीन सप्ताह बाद उसने देखा कि बच्चे हट्टे-कट्टे होने के बदले और ज्यादा दुबले-पतले दिखायी देने लगे थे। अब माँ थोड़ी उलझन में पड़ गयी। उसने अपने एक बच्चे को इसका राज जानने के लिए भाइयों के साथ गौशाला भेजा और कहा कि वह ध्यान दे कि भाई दिन में क्या  खाते हैं।

दूसरे दिन तीनों भाई गायों को लेकर जंगल की ओर निकल पड़े। गायों ने आराम से जंगल में घास चरी। दोपहर का समय होने को आया तो बच्चों के पेट भूख से कुलबुलाने लगे। पर उन्हें हिम्मत नहीं हुई कि वह गाय से दूध माँगें। उन्हें डर था कि उनका सौतेला भाई माँ से चुगली न कर देगा। भूख सहन से बाहर होने पर वे भाई से बोले कि हमारी काली गाय हमें दूध देती है, इसी से हम अपनी भूख मिटाते हैं। यह बात तुम किसी को मत बताना। भाई ने कहा, “मैं इस बात को किसी से नहीं कहूँगा। चिन्ता मत करो।” अब दोनों भाई खुश हुए और अपनी रोटी गाय को देते हुए बोले. ‘ओ प्यारी माँ! हम पर ऐसी दया करो, जैसी हमारी माँ हम पर करती थीं।” ऐसा सुनते ही गाय ने तीनों भाइयों को पेट भरकर दूध पिलाया। शाम होने पर तीनों भाई गायों को लेकर घर आए तो माँ ने अपने बेटे से पूछा, “तुमने चरागाह में क्या खाया?”’ बेटे ने कहा, “हमने वही खाया जो तुमने हमें दिया था। लेकिन खाना इतना बुरा था कि कुत्तों भी न खाए।” ऐसा सुनकर माँ को बड़ा बुरा लगा।

दूसरे दिन उसने भाइयों के साथ बेटी को भेजा और कहा कि वह ध्यान से देखे कि दोनों भाई क्या खाना खाते हैं। अब बेटी भाइयों के साथ चरागाह में गयी। दोपहर होने को आयी। बच्चों को भूख लगने लगी। उन्होंने पिछले दिन की तरह ही बहन से भी कहा, “प्यारी बहन! तुम किसी से भी मत कहना कि हमें खाना कैसे मिलता है।” बहन ने भरोसा दिलाया कि वह किसी से नहीं कहेगी। अब भाई गाय के पास गये और अपने हाथ की सूखी रोटी देते हुए बोले, “ओ प्यारी माँ हम पर ऐसी ही दया करो, जैसी हमारी माँ करती थी।” उस दिन गाय ने उन्हें ढेर सारा खाना दिया। सबने पेट भरकर खाया। लड़की ने थोड़ा-सा खाना अपनी चुन्नी में छिपा लिया।

घर पहुँचते ही माँ ने पूछा कि तुमने चरागाह में क्या खाया? बेटी ने उत्तर दिया, “मेरी चुन्नी से पूछो, मुझ से नहीं।” माँ ने चुन्नी देखी तो उसमें खाना था। माँ ने पूछा, “यह कहाँ से आया?” बेटी ने माँ से कहा कि इसका जवाब चुन्नी ही दे रही है कि खाना गाय ने दिया था। यह जानकर माँ को बड़ा गुस्सा आया कि सौतेले बच्चे गौशाला में मजे कर रहे हैं। उसने उनकी काली गाय को ही मारने की ठान ली। उसने बीमार होने का बहाना करके वैद्य से कहा कि वह उसके पति से कहे कि काली गाय का मांस खाकर ही वह अच्छी हो सकती है। वैद्य ने ऐसा ही किया। उसके पति को कहा कि उनके घर की काली गाय को ही मारना होगा।

बाप ने तुरन्त ही बच्चों को समाचार भेजा कि माँ को बचाने के लिए उन्हें काली गाय को मारना होगा। उसे लेने वे गौशाला में आ रहे हैं। यह सुनकर दोनों बच्चे गाय के गले में हाथ डालकर रोने लगे। तभी बाप व बेटा चरागाह पर आ पहुँचे। उन्होंने गाय के गले से लिपटे बच्चों के हाथों को हटाकर उन्हें दूर किया और घर को चल पड़े। बच्चे भी पीछे-पीछे घर आये और पिता से कहा, “’पिताजी इसे नहीं मारें, नहीं तो हम फिर से बिना माँ के हो जायेंगे।” उनकी बात पर सबने उनकी खिल्ली उड़ाई और उसी समय गाय को मार दिया गया। माँ ने उसका मांस खाया। उसके पति व बच्चों ने भी खाया। लेकिन इन दोनों भाइयों की आँखों से आँसुओं की धार बहती रही। वे कुछ भी नहीं बोले और जो मांस उन्हें मिला, उसे वे अपने खेत में लें गये। उसके बाद आस-पास लकड़ी इकट्ठा करके उसका दाह संस्कार कर दिया। उससे जो राख बनी, उसे अपनी गौशाला में ले गये। वहाँ उन्होंने एक गड्ढा खोदा और जो अस्थियाँ बची थीं, उन्हें व राख को दफना दिया।

दूसरे दिन से दोनों भाई फिर से गौशाला जाने लगे। फर्क इतना ही था कि काली गाय उनके साथ नहीं थी। वे रोज गौशाला में अपनी गाय की अस्थियों के पास जाकर प्रेम के दो आँसू बहाकर दूसरी गायों के साथ घर लौट आते। एक दिन हमेशा की तरह वे गौशाला में पहुँचे तो देखा कि अस्थियों की जगह पर एक सुन्दर एलोवेरा का पौधा खड़ा था। वे आश्चर्य से उसके पास गए और उसकी लम्बी-लम्बी पत्तियों को सहलाने लगे। तभी उस सुन्दर पौधे ने उन्हें अपनी गोद में ले लिया और खाने की बौछार कर दी। दोनों भाई उस पर लिपटे हुए बोले, “हमारी माँ कभी गाय बनकर आती है, कभी एलोवेरा का पौधा बनकर आती है। माँ कितनी अच्छी होती है। क्यों! है न?” कहकर दोनों भाई हँसने लगे।

कहते हैं कि उसके बाद वे दोनों भाई अपनी सौतेली माँ के पास नहीं गये। उसी एलोवेरा के पौधे ने उनका पालन-पोषण कर उन्हें बड़ा बनाया।

One reply on “Misr (Egypt) ki Lok Kathayen-1 (मिस्र की लोक कथाएँ-1)”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s