Categories
Bed time Stories Lok Kathayen Story Uzbekistan ki Lok Kathayen

Uzbekistan ki Lok Kathayen-1(उज़्बेकिस्तान की लोक कथाएँ-1)

कहानी- गज़ब का दिन: उज़्बेकिस्तान की लोक कथा

स्वेतलाना इतनी बातूनी थी कि जहां कहीं उसे कोई बात करने वाले मिल जाए, वह उसे ढेर सारी बातें सुनाए बिना नहीं छोड़ती थी । गांव में उसकी ढेरों सहेलियां थीं । उसका जब कभी बातें करने का मन करता तो कभी किसी के घर चली जाती, तो कभी किसी के घर ।

स्त्रियां उसकी बातें सुनकर खूब आनन्दित होती थीं । स्वेतलाना के पास जब कोई बात सुनाने को न होती तो वह बड़ी-बड़ी गप्पें हांका करती । कभी-कभी तो वह ऐसी गप्प हांकती कि लोगों को यकीन हो जाता कि वह सच बोल रही है ।

ज्यादा बातूनी होने के कारण वह अपने घर की निजी बातें भी लोगों को बता देती थी । असल में उसके पेट में कोई बात पचती ही नहीं थी । इस कारण उसे जो भी इधर-उधर की बात पता लगती, बढ़ा-चढ़ा कर दूसरों को बता आती थी । कुछ लोग तो उसकी गप्प मारने व ज्यादा बोलने की आदत से बहुत परेशान थे ।

उसकी इस आदत से सबसे ज्यादा परेशान उसका पति मिनाज़ था । वह उसे हरदम समझता था कि कम बोला करो, घर की बातें बाहर मत बताया करो । परंतु स्वेतलाना के कानों पर जूं तक नहीं रेंगती थी । बातें करने के चक्कर में अक्सर उसे खाना बनाने को देर हो जाया करती थी । कभी-कभी तो वह घर के जरूरी काम तक भूल जाती थी । शाम को जब थका हुआ मिनाज़ खेत से लौटता तो उसे खूब डांटता । स्वेतलाना अपनी आदत से मजबूर थी । गप्पें उसके लिए समय बिताने का सबसे अच्छा साधन थीं ।

एक बार मिनाज़ अपने खेत में हल चला रहा था । तभी उसके हल से कोई वस्तु टकराई, खन-खन की आवाज सुनकर वह चौकन्ना हो गया । उसने हाथ से थोड़ी मिट्टी खोदी तो उसे यकीन हो गया कि यहां कोई धातु की चीज गड़ी हुई है । उसने उस स्थान पर निशान लगा दिया । वह सारे दिन चुपचाप खेत पर काम करता रहा ताकि दिन की रोशनी में कोई उसे जमीन खोदते न देख ले । जब शाम हो गई और हल्का अंधेरा होने लगा तो उसने मौका पाकर खेत में उसी स्थान पर खुदाई शुरू कर दी । थोड़ी ही देर में जगमगाता खजाना उसके सामने था । उस खजाने में हीरे-मोती, सोने के आभूषणों का ढेर था । वे सब एक स्वर्ण कलश में भरे हुए थे । उस खजाने को देखकर मिनाज़ की बांछें खिल गईं ।

जैसे ही मिनाज़ वह खजाना घर ले जाने के लिए निकालने लगा तभी उसे याद आया कि उसकी पत्नी को जैसे ही खजाने का पता लगेगा वह सारे शहर में ढिंढोरा पीट देगी, फिर तो खजाना राजा के पास चला जाएगा । उसे समझ नहीं आ रहा था कि वह खजाने को क्या करे ? घर ले जाए तो पत्नी से कैसे छिपाए ?

उसने खजाने को वहीं पास के जंगल में दबा दिया और मन ही मन एक योजना बनाई । फिर वह घर पहुंच गया । घर जाकर स्वेतलाना से कहा कि आज मेरी पूरियां खाने का मन है, जरा जल्दी से बना दो ।

स्वेतलाना बोली – “आज कोई खास बात है क्या ?”

“हो सकता है, कोई खुशखबरी हो । तुम्हें बाद में बताऊंगा ।” मिनाज़ ने कहा ।

सुनकर स्वेतलाना को जोश आ गया और वह खुशखबरी जानने को बैचेन हो गई और फटाफट पूरियां बनाने लगी । मिनाज़ चुपचाप पूरियां खाने लगा । वह एक साथ 4-5 पूरी उठाता और उसमें एक-एक पूरी स्वयं खाता, बाकी चुपचाप थैले में डाल लेता । उसकी पत्नी यह देखकर भौचक्की हुई जा रही थी कि मिनाज़ इतनी तेजी से पूरियां खाए जा रहा है ।

जब मिनाज़ का थैला पूरियों से भर गया तो बोला अब मेरा पेट भर गया । स्वेतलाना बोली – “अब खुशखबरी तो बताओ ।”

मिनाज़ बोला – “खुशखबरी यह है कि आज राजा के बेटे की शादी है । पूरा शहर रोशनी से जगमगा रहा है । मैं जगमग देखकर थोड़ी देर में लौटता हूं ।”

मिनाज़ चुपचाप थैला उठाकर चल दिया और बाजार जाकर बहुत सारी जलेबियां और मछलियां खरीद लीं, फिर अपनी योजना के अनुसार जंगल में पूरी तैयारी कर आया ।

जब वह खुशी-खुशी घर लौटा तो पत्नी उसकी राह देख रही थी । उसने पत्नी के कान में फुसफुसा कर कहा – “जानती हो, दूसरी बड़ी खुशखबरी क्या है ?…. हमें बहुत बड़ा खजाना मिला है । जल्दी से तैयार हो जाओ । हम खजाना रात में घर लेकर आएंगे ।”

स्वेतलाना जल्दी से तैयार हो गई । कुछ ही देर में वे जंगलों से गुजर रहे थे । अचानक एक पेड़ की नीची टहनी से स्वेतलाना के सिर पर कुछ टकराया । उसने सिर झुकाकर ऊपर की चीज पकड़ने की कोशिश की तो देखा हाथ में जलेबी थी । स्वेतलाना जलेबी देखकर हैरान रह गई । वह मिनाज़ से बोली – “सुनते हो जी, यहां पेड़ पर जलेबी लटकी थी, मेरे हाथ में आ गई । है न कैसी आश्चर्य की बात ?”

मिनाज़ बोला – “इसमें आश्चर्य की क्या बात है ? ये जलेबियों के ही पेड़ हैं, क्या तुमने जलेबी का पेड़ नहीं देखा ?”

स्वेतलाना आश्चर्यचकित होकर ऊपर देखने लगी । उसने देखा, सभी पेड़ों पर ढेरों जलेबियां उगी हैं । वह उनमें से दो-तीन जलेबी तोड़कर आगे बढ़ने लगी और चलते-चलते खाने लगी । वह बोली – “आज गज़ब का दिन है । आज ही हमें खजाना मिला है, आज ही राजा के बेटे की शादी है, आज ही मैंने जलेबियां के पेड़ देखे हैं ?”

“हां, वाकई आज गज़ब का दिन है ।” मिनाज़ ने हां में हां मिलाई ।

वे जंगल में कुछ ही दूर गए थे कि स्वेतलाना ने देखा जंगल में जगह-जगह पर मछलियां पड़ी थीं । वहां जमीन भी हल्की-सी गीली थी । कुछ मछलियां मरी हुई थीं और कुछ हिल-डुल रही थीं । उनमें अभी जान बाकी थी ।

इतने में मिनाज़ स्वेतलाना से बोला – “लगता है आज जंगल में मछलियों की बारिश हुई है और मजे की बात यह है कि यह बारिश अभी थोड़ी ही देर पहले हुई लगती है क्योंकि कुछ मछलियां जिंदा हैं । आज तो हम जरा जल्दी में हैं, वरना मछलियां अपने थैले में भर लेते, खाने के काम आतीं ।”

स्वेतलाना ने विस्मय से आंखें फैलाकर पूछा – “क्या कहा, मछलियों की बारिश ? यह तो गज़ब हो गया । वाकई आज गज़ब का दिन है । मुझे एक और नई चीज देखने और सुनने को मिल रही है । मैंने तो मछलियों की बारिश के बारे में आज तक नहीं सुना ।”

“असल में तुम्हें बाहर की चीजों का पता नहीं रहता, क्योंकि तुम घर में ही रहती हो । वरना तुम्हें जंगल में मछलियों की बारिश का अवश्य पता होता ।” मिनाज़ बोला ।

वे आगे बढ़ने लगे । रात का अंधियारा बढ़ता जा रहा था । कुछ ही देर में कंटीली झाड़ियों पर कोई सफेद-सी वस्तु दिखाई देने लगी । स्वेतलाना पहले से ही आश्चर्य में डूबी हुई थी । आगे झुककर देखने लगी – “यह सफेद-सफेद गोल-सा क्या हो सकता है ?” इतने में उसने हाथ बढ़ाया और बोली – “झाड़ पर पूरियां ? लगता है कि जलेबी के पेड़ की तरफ जंगल में पूरियों के झाड़ भी होते हैं । अब मुझे समझ आ गया कि जंगल में कैसे अनोखे पेड़ होते हैं ।”

मिनाज़ ने कहा – “लगता है तुम्हें एक ही दिन में जंगल की सारी चीजों की अच्छी जानकारी हो गई है । तुमने पूरियों के झाड़ भी पहली बार देखे हैं न ?”

“हां, सो तो है । अब आज गज़ब का दिन है तो गज़ब ही गज़ब देखने को मिल रहे हैं । चलो, अब यह भी बताओ, खजाना कहां है?” स्वेतलाना बोली ।

“हम खजाने के पास पहुंचने ही वाले हैं । वो देखो, पास के तालाब में किसी ने जाल बिछाया हुआ है । मैं देखता हूं कि जाल में कुछ फंसा या यूं ही लटका हुआ है ।”

मिनाज़ ने आगे बढ़कर जाल उठा लिया । जाल देखकर स्वेतलाना आश्चर्य से आंखें फैलाते हुए बोली – “पानी के अंदर खरगोश ? यह कैसे हो सकता है । क्या जंगल में खरगोश पानी में भी रहते हैं ?”

“हां, हां क्यों नहीं, सामने देखो खजाना यहीं है । अब हम खजाना निकालेंगे ।” मिनाज़ ने रुकते हुए कहा ।

एक स्थान से मिट्टी खोदकर मिनाज़ ने सोने का कलश निकाल का स्वेतलाना को खजाना दिखाया । स्वेतलाना की खुशी और विस्मय देखते ही बनता था ।

मिनाज़ ने चुपचाप गड्ढा वापस भरा और अपने दुशाले में कलश को ढक लिया । कुछ ही देर में मिनाज़ और स्वेतलाना खजाना लेकर वापस घर पहुंचे । दोनों ही चल-चलकर थक गए थे । अत: दोनों ने सलाह की कि सुबह उठकर सोचेंगे कि हमें इस खजाने का क्या इंतजाम करना है, अभी सो जाते हैं ।

दोनों लेटते ही सो गए । सोते ही मिनाज़ को खजाने के बारे में बुरे-बुरे सपने आने लगे और कुछ ही देर में मिनाज़ घबराकर उठ बैठा । उसने देखा खजाना सही-सलामत घर में रखा है और सुबह होने में देर है ।

मिनाज़ चुपचाप उठा और स्वर्ण कलश को ढककर सुरक्षित स्थान पर रख आया, फिर चैन से सो गया ।

सुबह निकले 2-3 घंटे हो चुके थे, पर मिनाज़ सोया हुआ था । अचानक घर के बाहर शोर-शराबा सुनकर मिनाज़ की आंख खुली ।

उसने उठकर देखा, बाहर लोगों की भीड़ जमा थी । पूछने पर पता लगा कि लोग खजाना देखने आए थे । उसकी पत्नी स्वेतलाना सुबह ही पानी भरने गई तो अपनी पड़ोसिनों को खुशखबरी सुना आई थी कि हमें बहुत बड़ा खजाना मिला है । यह सुनकर लोग उसे बधाई देने व खजाने के दर्शन करने आए थे ।

मिनाज़ ने लोगों से कहा – “लगता है मेरी पत्नी ने सपने में कोई खजाना देखा है, जिसके बारे में उसने आप लोगों को बताया है । मुझे तो ऐसा कोई खजाना नहीं मिला ।”

लोग निराश होकर लौट गए । बात फैलते-फैलते राजा तक पहुंच गई । राजा ने मिनाज़ को बुलवा भेजा । मिनाज़ की राजा के सामने पेशी हुई ।

राजा ने पूछा – “सुना है, तुम्हें कोई बहुत बड़ा खजाना मिला है ? कहां है वह खजाना ?”

“हुजूर, मुझे तो ऐसा कोई खजाना नहीं मिला । मुझे समझ में नहीं आ रहा कि आप क्या बात कर रहे हैं ?” मिनाज़ बोला ।

“यह कैसे हो सकता है । तुम्हारी पत्नी ने स्वयं लोगों को उस खजाने के बारे में बताया है ।” राजा ने कहा ।

“हुजूर माफ करें मेरी पत्नी बहुत गप्पी है । आप उसकी बात का यकीन न करें ।”

“नहीं, हम इस बात की परीक्षा स्वयं करेंगे,” राजा ने कहा । फिर राजा ने मिनाज़ की पत्नी स्वेतलाना को अगले दिन दरबार में पेश होने की आज्ञा दी ।

स्वेतलाना खुशी-खुशी राजा के दरबार में हाजिर हो गई ।

राजा ने पूछा – “सुना है कि तुम्हें कोई बड़ा खजाना मिला है ।”

“जी माई बाप, आप सही फरमा रहे हैं । हमें वह खजाना 2-3 दिन पहले मिला था ।” स्वेतलाना बोली ।

राजा ने पूछा – “तुम्हें वह खजाना कहां मिला, जरा विस्तार से बताओ ?”

स्वेतलाना आत्मविश्वास से भर कर बोली – “हुजूर, गज़ब का दिन था, परसों की ही बात है । हुजूर उस दिन राजा के यानी आपके बेटे की शादी भी थी । मेरे पति शहर की जगमग देखने गए थे ।”

राजा एकदम चुप हो गया, फिर बोला – “मेरा तो कोई शादी लायक बेटा नहीं है । मेरा बेटा तो सिर्फ चार वर्ष का है । तुम्हें ठीक से तो याद है न ? जरा सोच-समझ कर बोलो ।”

स्वेतलाना बोली – “साहब, हम उसी रात को खजाना लेने गए थे, उस दिन गज़ब का दिन था । मैंने उस दिन पहली बार जलेबियों के पेड़ देखा और बहुत सारी जलेबियां तोड़कर खाईं भी ।”

राजा आश्चर्य से स्वेतलाना को देख रहा था – “जलेबियों के पेड़ ?”

“हुजूर, उस गज़ब के दिन मैंने मछलियों की बरसात देखी, पानी में रहने वाले खरगोश को देखा और… ।”

राजा ने कहा – “लगता है, यह कोई पागल औरत है । इसे यहां से ले जाओ ।”

जब राजा के सैनिक उसे बाहर ले जाने लगे तो स्वेतलाना चिल्लाकर कहने लगी ।

“मैं सच कहती हूं कि हमें सोने के कलश में खजाना मिला था, उस दिन गज़ब का दिन था । मैंने पूरियों के झाड़ भी उसी दिन देखे थे ।”

राजा के सैनिकों ने स्वेतलाना को बाहर निकाल दिया । मिनाज़ बोला – “हुजूर, मैं न कहता था कि मेरी पत्नी की बातों का विश्वास न करें ।”

राजा ने मिनाज़ को छोड़ दिया । अपने दौ सैनिकों को अगले दिन मिनाज़ के घर भेजा । उन्होंने स्वेतलाना से पूछा – “अच्छा यह बताओ कि घर में खजाना कहां रखा है ।”

स्वेतलाना दौड़कर उसी कोने में गई जहां उन्होंने खजाना रखा था । परंतु वहां कोई खजाना न था । वह इधर-उधर देखती रही, परंतु उसे कोई खजाना न मिला । राजा के सिपाही वापस लौट गए ।

मिनाज़ ने खैर मनाई कि उसकी चतुराई से उसका खजाना बच गया था । वे दोनों सुख से रहने लगे । फिर स्वेतलाना ने भी गप्प मारना व ज्यादा बातें करना छोड़ दिया ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s