Categories
Bed time Stories Iraq ki Lok Kathayen Lok Kathayen

Iraq ki Lok Kathayen-2(इराक की लोक कथाएँ-2)

कहानी-एक अनोखा न्याय: इराकी लोक कथा

बगदाद के राजा के महल में अली हसन नाम का एक नौकर था। खाते पीते घर से होने पर भी वह गरीब की तरह रहता था। वह और उसकी पत्नी फातिमा अशरफी इकट्ठे करने में जुटे रहते थे। और उन्हें दिन-रात गिनते रहते थे। धीरे-धीरे अली हसन और भी लालची हो गया।

वह खाने पीने की चीजें भी मुफ्त चाहने लगा। एक दिन उसने अपनी बीवी फातिमा से कहा। “तुम बाजार वालों को यह बताओ की मुझे जेल खाने में बंद कर दिया गया है। और इस बहाने खाने पीने का सामान मुफ्त हथिया लो। अली हसन के अनुसार फातिमा ने ऐसा ही किया। थोड़े दिन बाद बाजार वालों ने सामान देना बंद कर दिया।

तब अली हसन बोला। अब रिश्तेदारों के पास जाकर खाने पीने का सामान ले आओ। इसी प्रकार कुछ दिन बाद रिश्तेदारों ने भी अपना हाथ पीछे खींच लिया। अली हसन को बहुत गुस्सा आया। उस दिन वह राजा के महल से एक याकूत चुरा कर ले आया। अब उसे चोरी की भी लत लग गई। वह रोज एक जवाहरात चुरा के लाता और अपने घर में इकट्ठा करने लगा। जब उसके पास बहुत से जवाहरात इकट्ठटे हो गए। तब वह अपनी बीवी से बोला। इन जवाहरातों को बेचकर हमें अशरफियां इकट्ठी कर लेनी चाहिएं। और फिर बगदाद छोड़कर किसी और शहर में बस जाना चाहिए। उसकी बीवी ने कहा लाओ कुछ जवाहरात मैं आज बाजार में बेच दूं। जब वह बाजार पहुंची तो जौहरी ने खलीफा के जवारात पहचान लिए। और उन्हें राजा के यहां पहुंचा दिया।

अली हसन और उसकी बीवी को गिरफ्तार करके खलीफा के सामने लाया गया। सारी कहानी सुनकर राजा बोला, “दुकानदारों से झूठ बोलकर सामान लेने पर तुम्हें भारी जुर्माना देना होगा। रिश्तेदारों को ठगने पर तुम्हें कोड़े लगाए जाएंगे। और महल में चोरी करने पर सजा ए मौत दी जाएगी।”

यह सुनकर वह दोनों रोने और गिड़गिड़ाने लगे। तब दयालु राजा ने कहा। अच्छा महल के जवाहरात तो वापस लिए जाएंगे। पर तुम अपनी अशर्फियों की थैलियां गले में लटका कर वापस जा सकते हो।

उसी दिन राजा ने पूरे बगदाद में मुनादी करवा दी कि जो कोई भी अली हसन को अशर्फी के एवज में कुछ भी सामान देगा उसे फांसी दे दी जाएगी।

अली हसन और उसकी बीवी अजीब मुसीबत में फंस गए। उन्होंने राजा से माफी मांगी तो राजा ने हुकुम दिया। इसकी एक थैली उस दुकानदार को दे दो जिसने इनको उधार दिया। दूसरी थैली रिश्तेदारों को दे दो जिन्होंने इनको धन दिया। और अब इसे फिर से महल में नौकरी दे दो। फिर राजा अली हसन से बोला, “याद रखो ! जमा किया हुआ सोना मौत का कारण बनता है।”

Categories
Bed time Stories Iraq ki Lok Kathayen Lok Kathayen Story

Iraq ki Lok Kathayen-1(इराक की लोक कथाएँ-1)

कहानी-चमत्कारी मेंढ़क: इराकी लोककथा

बलसोरा के बादशाह का राज्य धनधान्य से संपन्न था । किसी भी प्रकार की कोई कमी न थी । उनकी एक प्यारी-सी बेटी थी रुजैल । उसके काले घुंघराले बाल, घनी पलकें, तीखे नयन-नक्श, हर किसी को अपनी ओर आकर्षित करते रहते थे ।

अनेक राजकुमार राजकुमारी रुजैल का हाथ थामने का प्रयास कर चुके थे । पर रुजैल सबका मजाक उड़ाती रहती थी । वह हर  किसी में कोई न कोई कमी निकाल देती । रुजैल के पिता उसके जन्मदिन पर हर वर्ष कोई न कोई सुंदर उपहार दिया करते थे । रुजैल को उन उपहारों में सोने की सुंदर हीरों जड़ी गेंद बेहद प्रिय थी । खाली वक्त होने पर रुजैल अपने महल के बाहर सुंदर बगीचे में गेंद खेल कर मन बहलाया करती थी ।

एक दिन रुजैल गेंद को जोर-जोर से उछालकर खेल रही थी । जैसे ही सूर्य की किरणों में गेंद चमकती थी, उसकी रोशनी चारों ओर फैल जाती थी । उस रोशनी को देखने में रुजैल को बड़ा आनंद आ रहा था ।

एक बार गेंद अचानक जोर से उछली और बगीचे के बीचों बीच बने तालाब में जा गिरी । गेंद पहले लिली के पत्ते पर रुकी । रुजैल गेंद पकड़ने के लिए दौड़ी, पर तब तक गेंद पानी में जा चुकी थी । सोने की गेंद होने के कारण गेंद पानी में डूब गई ।

रुजैल एकदम उदास हो गई । उसने अपना हाथ पानी में बढ़ाने की कोशिश की, पर गेंद का कहीं अता-पता नहीं था । तभी अचानक उसे एक फूल पर बैठा एक हरा-सा बदसूरत मेंढ़क दिखाई दिया ।

रुजैल को रोना आने लगा था कि अचानक मेंढ़क बोला – “यदि तुम मेरी बात मानो तो मैं तुम्हारी गेंद निकाल सकता हूं ।”

रुजैल तो अपनी गेंद के लिए पागल-सी हुई जा रही थी, बोली – “मैं तुम्हारी सारी बातें मानने को तैयार हूं । पर ऐ मेंढ़क, पहले तुम मेरी गेंद बाहर निकाल दो।”

मेंढ़क बोला – “ऐसी जल्दी भी क्या है ? पहले मेरी बात तो सुनो । मैं तालाब में रहते-रहते थक गया हूं । यदि मैं तुम्हारी गेंद निकाल दूं तो मैं तुम्हारी सोने की थाली में तुम्हारे साथ खाना खाऊंगा ।”

रुजैल जल्दी में बोली – “मुझे मंजूर है, पर मेरी गेंद तो जल्दी निकालो ।”

“तुम्हें मेरी दो शर्तें और माननी होंगी । मैं तुम्हारे चांदी के गिलास में ही पानी पीऊंगा और तुम्हारे मखमली बिस्तर पर ही सोऊंगा । यदि तुम्हें मंजूर हो तो बताओ । मैं तुभी तुम्हारी गेंद निकालूंगा ।” मेंढ़क बोला ।

रुजैल ने किसी भी बात को ध्यान से सुने बिना स्वीकृति दे दी । मन में सोचने लगी कि मेंढ़क कुछ पागल लगता है । मेरे हां करने से क्या फर्क पड़ता है । मेंढ़क चन्द क्षणों में चमकीली गेंद बाहर ले आया ।

रुजैल इतराती हुई बिना मेंढ़क का धन्यवाद किए गेंद लेकर चल दी । वह घर के अंदर आकर गेंद रखकर अपने माता-पिता के साथ खाना खाने बैठ गई ।

संगीत की मीठी-मीठी धुन बज रही थी, सब लोग मद्धम रोशनी में खाना खाने में व्यस्त थे । मेहमान भी मधुर धुनें सुनते हुए भोजन का आनंद ले रहे थे । रुजैल बादशाह व रानी के साथ मेज पर बैठी सोने-चांदी के बर्तनों में भोजन खाने लगी । रुजैल के पीछे खड़े नौकर उसके हाथ-पैर साफ कर उसकी खाने में मदद करने लिए उसके पीछे खड़े हो गए ।

अचानक दरवाजे पर ‘हांप-हांप’ की आवाज सुनाई दी । सभी का ध्यान उस आवाज की ओर आकृष्ट हो गया । रुजैल मेंढ़क को बिल्कुल भूल चुकी थी । उसने नौकर को दरवाजे पर जाकर देखने का आदेश दे दिया ।

मेंढ़क ने नौकर से कहा – “मुझसे राजकुमारी रुजैल ने अपने साथ भोजन करने का वादा किया है, अत: मैं भोजन करने आया हूं ।” मेंढ़क की बात सुनकर नौकर चौंक गया ।

नौकर ने रुजैल से आकर कहा तो रुजैल गुस्से में बोली – “नहीं, मैं किसी मेंढ़क को नहीं जानती, दरवाजा बंद कर दो ।” नौकर दरवाजा बंद करने जाने लगा तो बलसोरा के बादशाह बोले – “प्यारी रुजैल, याद करो, कहीं तुमने किसी मेंढ़क से वादा तो नहीं किया । हम शाही लोग किसी से वादा करके तोड़ते नहीं ।”

पिता की बात सुनकर रुजैल घबरा गई । उसने देखा सभी मेहमानों की निगाहें उसी पर टिकी थीं । रुजैल ने चुपचाप मेंढ़क को अंदर लाने की स्वीकृति प्रदान कर दी ।

मेंढ़क बोला – “रुजैल, मैं तुम्हारे पास बैठकर भोजन करूंगा ।” रुजैल ने मेंढ़क को अपनी कुर्सी पर बिठा लिया । तो मेंढ़क बोला – “तुमने मुझे अपनी थाली में भोजन कराने का वादा किया था, मैं तुम्हारी थाली में भोजन करूंगा, मुझे मेज पर पहुंचा दो ।”

मेंढ़क की बात सुनकर रुजैल को बहुत गुस्सा आ रहा था, परंतु वह अपने पिता की निगाह देखकर चुप हो गई । उसने मेंढ़क को चुपचाप थाली के पास बिठा दिया । मेंढ़क के भोजन शुरू करते ही रुजैल ने अपने हाथ रूमाल से पोंछ लिए । उसे बदसूरत मेंढ़क से बेहद चिढ़ हो रही थी ।

रुजैल ने अपने खूबसूरत चांदी के गिलास में पानी पीना शुरू कर दिया । मेंढ़क बोला – “रुजैल मुझे भी अपने गिलास में पानी दो न, मुझे बड़ी प्यास लगी है ।” मेंढ़क की बात सुनकर रुजैल ने गिलास अपनी तरफ खींच लिया और गुस्से से मेंढ़क को देखने लगी ।

इस पर मेंढ़क बोला – “गुस्सा क्यों होती हो रुजैल, तुम्हीं ने तो वादा किया था कि अपने चांदी के गिलास में मुझे पानी पिलाओगी ।” रुजैल ने खिसियाते हुए गिलास मेंढ़क की तरफ बढ़ा दिया और चुपचाप उठ कर चल दी ।

मेंढ़क के मुंह से रुजैल बार-बार अपना नाम सुनकर जली-भुनी जा रही थी । तभी मेंढ़क बोला – “अपना तीसरा वादा भूल गईं क्या ? मुझे भी बड़ी नींद आ रही है, अपने साथ मुझे भी ले चलो ।”

रुजैल गुस्से में बोली – “नहीं, कभी नहीं ।” तभी बादशाह प्यार से रुजैल से बोले – “प्यारी बेटी, तुम्हें वादा करने से पहले सोचना चाहिए था । अब वादा किया है तो मेंढ़क को भी अपने साथ ले जाओ ।”

रुजैल के पीछे ‘हांप-हांप’ कर उछलता हुआ मेंढ़क भी चल दिया । दो सीढ़ी ऊपर जाने के बाद ही मेंढ़क बोला – “मैं बहुत थक गया हूं, मुझे भी ले चलो उठाकर रुजैल ।” रुजैल ने चुपचाप मेंढ़क को उठा लिया और सोचने लगी कि इसे खाली कमरे में छोड़ दूंगी ।

थोड़ा आगे जाकर रुजैल ने मेंढ़क को एक खाली कमरे में बंद कर दिया और अपना कमरा अंदर से बंद करके सोने चली गई । रुजैल अब निश्चिंत थी कि मेंढ़क को दूसरे कमरे में बंद कर दिया है । इसी निश्चिंतता के कारण रुजैल को लेटते ही नींद आ गई ।

पर कुछ ही मिनटों बाद दरवाजे पर ‘हांप-हांप’ की ठक-ठक सुनाई दी । रुजैल की आंख खुल गई और वह डर गई, कहीं उसके पिता को मेंढ़क की आवाज सुनाई न दे जाए, उसने चुपचाप दरवाजा खोल दिया और जमीन पर पड़े कालीन पर मेंढ़क को सो जाने को कह कर स्वयं पलंग पर लेट गई ।

पर मेंढ़क रुजैल को तंग किए जा रहा था और रुजैल झुंझलाते हुए भी कुछ करने में असमर्थ थी । “सुलाना चाहती हो, अपना वादा भूल गईं क्या ?”

“वादा, वादा, वादा…” रुजैल गुस्से में भर उठी । उसने मेंढ़क को उठाकर जोर से खिड़की के बाहर फेंक दिया, पर यह क्या, वह पलट भी न पाई थी कि उसने देखा कि बगीचे में गिरते ही मेंढ़क राजकुमार बन गया है । चांदनी में राजकुमार का यौवन और भी निखर रहा था ।

राजकुमार को देखकर रुजैल ठगी सी रह गई, ऊपर से ही बोली – “तुम कौन हो ? मैं तुमसे मिलना चाहती हूं ।” राजकुमार ने रुजैल को नीचे आने का इशारा किया ।

रुजैल मेंढ़क से जितना ऊब चुकी थी, राजकुमार के पास जाने को उतना ही व्याकुल हो उठी । वह राजकुमार के पास पहुंची तो राजकुमार से मेंढ़क के बारे में पूछा, राजकुमार ने मेंढ़क के बारे में बताया ।

“मैं भी तुम्हारी तरह सिर्फ सुंदर चीजों से प्यार करता था । एक बार मैं शिकार पर गया था कि जंगल में मुझे एक बदसूरत परी मिली । मैं उसे देखकर हंस पड़ा । बस, उस बदसूरत परी ने मुझे श्राप दे दिया कि तुम जिस सुंदरता पर घमंड करते हो वह बदसूरती में बदल जाएगी और तुम हमेशा के लिए एक बदसूरत मेंढ़क बन जाओगे ।”

मैंने परी से बहुत क्षमा-याचना की तो परी ने मुझे श्रापमुक्त होने का तरीका बता दिया कि यदि कोई खूबसूरत राजकुमारी किसी चांदनी रात में तुम्हें गुस्से में मारेगी तो तुम पुन: पुराने स्वरूप में आ जाओगे । यदि मैं इस प्रकार की शर्तें न रखता और रात में तुम्हारे बिस्तर पर सोने की जिद न करता तो हरगिज रात में मुझे गुस्से से मारने वाली तुम जैसी राजकुमारी न मिलती और में श्रापमुक्त न होता ।

बगदाद के राजकुमार मोबारेक की बात सुनकर राजकुमारी रुजैल का दिल पसीज उठा और वह उसे इज्जत के साथ महल में ले आई । सुबह को उसका परिचय अपने माता-पिता से करवया । फिर बहुत धूमधाम से राजकुमारी रुजैल और राजकुमार मोबारेक की शादी हो गई ।