Categories
Bed time Stories Lok Kathayen Spain ki Lok Kathayen Story

Spain ki Lok Kathayen-2 (स्पेन की लोक कथाएँ-2)

राजा के शानदार कपड़े- स्पेन की लोक कथा (हैंस क्रिश्चियन एंडर्सन)

ishhoo blog image5

बहुत समय पहले एक राजा था, जो नए-नए कपड़ों का इतना शौकीन था कि वह अपने राज्य की आमदनी अपने शौक को पूरा करने में ही लुटा देता था। हर समय उसकी यह इक्षा रहती थी कि लोग उसके कपड़ों को देखते ही रहें। न उसे सेना को मजबूत बनाने की फिक्र थी, न ही खेल-तमाशे में वह कोई रूचि लेता था, न घूमने-फिरने को ही उसका मन करता था। हां, अपने नए कपड़ों को दिखाने के लिए वह चाहे तो दासों कोस चला जाता। दिन और रात के हर पहर के लिए उसके पास अलग पोशाक थी। जिस तरह किसी राज्य में राजा के बारे में पूछने पर उत्तर मिलता है कि वह अपने मंत्रियों की बैठक में है, उसी तरह यदि कोई इस राजा के बारे में पूछता, तो उत्तर मिलता कि वह पोशाक बदलने वाले कमरे में है।
जिस शहर में राजा की राजधानी थी वह सम्पन था और वहां रात-दिन आने-जाने वालों की चहल-पहल रहती थी। शायद ही कोई दिन ऐसा गुजरता होगा, जिस दिन बाहर से आने वाले लोग सैकड़ों की तादाद में राजधानी के बाजारों में दिखाई न पड़ते हों। इन्हीं में एक दिन दो ठग भी आए। उन्होंने लोगों को बताया कि वे बुनकर हैं और ऐसा बढ़िया कपड़ा बुनना जानते हैं कि सारे संसार में ढूंढ़ने पर भी नहीं मिल सकता, यहां तक कि कोई उसकी कल्पना तक नहीं कर सकता। न केवल उस कपड़े का रंग और कला ही सुन्दर होगा, बल्कि उसमें यह भी विशेषता होगी कि जो आदमी अपने पद के योग्य नहीं होगा या बेहद मुर्ख होगा उसे वे वस्त्र दिखाई तक नहीं देंगे।

Categories
Bed time Stories Lok Kathayen Spain ki Lok Kathayen Story

Spain ki Lok Kathayen-1 (स्पेन की लोक कथाएँ-1)

सोने की सुराही: स्पेन की लोक-कथा

ishhoo blog image4

बहुत समय पहले की बात है, स्पेन के उत्तरी भाग में घोड़ों का एक व्यापारी रहता था। उसके परिवार में केवल मां और बहन ही थीं। साल के  कुछ दिन तो वह अपने घर पर रहता था, लेकिन ज्यादातर समय बाज़ार में घोड़े और खच्चर की खरीद-फ़रोख़्त में बिता दिया करता था।
एक दिन वह व्यापारी किसी दूर के शहर में घोड़े बेचने के लिए गया। वहां शानदार मेला लगा हुआ था। वहीं उसने एक बहुत सुंदर लड़की देखी जो अपने हाथ की बुनी हुई कुछ ऊन मेले में बेचने के लिए लायी थी। वह लड़की इतनी सुंदर थी कि व्यापारी उस पर मोहित हो गया और उससे शादी कर अपने घर ले आया।
लेकिन उसकी मां और बहन, बहू को देखकर खुश नहीं हुई क्योंकि वह गरीब होने के कारण अपने साथ दहेज नहीं लायी थी।
शादी के लगभग साल-भर बाद व्यापारी की पत्नी ने एक सुंदर लड़की को जन्म दिया और थोड़े ही दिन बाद वह अपने पति और बच्ची को रोता छोड़कर चल बसी। कुछ वर्ष बाद व्यापारी की मां भी मर गई। व्यापारी की मां छोटी बच्ची को बहुत प्यार करती थी और उसकी बड़ी देखभाल करती थी लेकिन उसकी बहन जुआना उससे बड़ी ईर्ष्या करती थी।